State

अनियमितता के चलते एनआरडीए के पूर्व उपाध्यक्ष बजाज हुए सस्पेंड

रायपुर/जनदखल. एनआरडीए के पूर्व उपाध्यक्ष एसएस बजाज को राज्य की भूपेश बघेल सरकार ने सस्पेंड कर दिया है। भूपेश सरकार कैबिनेट की करीब ढाई घंटे चली बैठक में यह फैसला लिया गया। एसएस बजाज पर आरोप है कि उन्होंने एनआरडीए में सीईओ रहते हुए नियमों को ताक पर रखकर काम किया है। मंत्री रविंद्र चौबे ने बताया कि 2003 में जिस जगह को सोनिया गांधी ने नया रायपुर की राजधानी के रुप में शिलान्यास किया था, उस जमीन को एनआरडीए के अफसरों ने बेच दिया। उन्होंने कहा कि रमन सिंह और एनआरडीए के तात्कालीन अधिकारियों ने छत्तीसगढ़ की संपत्ति को लुटाने का काम किया है।

इसके लिए राज्य सराकर एनआरडीएके तत्कालीन सीईओ एसएस बजाज को जिम्मेदार मानते हुए सस्पेंड कर दिया। बजाज राज्य में कई जिम्मेदारी पद रह चुके हैं। फिलहाल वो राज्य वन अनुसंधान संस्धान में एडिशनल डायरेक्टर हैं। बताया जाता है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और उनके मंत्रिमंडल के सहयोगी नवा रायपुर के आईआईएम देखने गए थे। सोनिया गांधी ने नया रायपुर की राजधानी के रुप में जिस जगह शिलान्यास किया था। उस जगह का हाल देखकर मुख्यमंत्री देखकर काफी नाराज दिखे। इससे पहले वे गोल्फकोर्स की ज़मीन को कोड़ियों के मोल प्राइवेट बिल्डर को देने से भी नाराज थे। निरीक्षण करने के बाद लौटते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आईआईएम को ज़मीन अलॉट करने के मामले की जानकारी मांगी।

Leave a Comment