State

पूर्व सीएम ने कहा- छत्तीसगढ़ का किसान आज दोतरफा मार झेल रहा है

रायपुर/जनदखल. विधानसभा में विपक्ष सरकार को घेरने की पूरी कोशिश करता नजर आ रहा है। भाजपा विधायक शिवरतन शर्मा ने कहा कि किसानों को इस समय न ऋण मिल रहा है न बिजली। अघोषित बिजली कटौती के कारण खेती का काम प्रभावित हो रहा है। इस पर हमने स्थगन प्रस्ताव दिया है, ग्राह्य कर चर्चा कराएं। भाजपा सदस्य नारायण चंदेल ने कहा कि एक तरफ वर्षा नहीं हो रही, वहीं किसानों को खाद बीज नहीं मिल रहा। बिजली कटौती के कारण पम्प नहीं चल रहे।

इसके साथ ही पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा कि किसान आज दोतरफा मार झेल रहा है। मानसून साथ नहीं दे रहा। इससे खेती-किसानी प्रभावित हो रही है। राष्ट्रीयकृत, सहकारी एवं ग्रामीण बैंकों की बात करें तो 65 प्रतिशत किसानों का ही कर्जा माफ हो पाया, 35 प्रतिशत का नहीं। यह काफी गंभीर विषय है। सारी कार्यवाही स्थगित कर इस पर सदन में लंबी चर्चा कराई जानी चाहिए। विपक्षी सदस्य अजय चंद्राकर ने कहा कि लगता है आठ महीने में पाप का घड़ा भर गया। छत्तीसगढ़ पर से इंद्र देव की कृपा रुठ गई। बाहर से महंगे बीज मंगाने का षड़यंत्र रचा जा रहा है।

नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि छत्तीसगढ़ के लगभग 15 जिलों में अकाल की स्थिति है। विधानसभा का ये मानसून सत्र किसानों को समर्पित हो। विपक्षी सदस्य बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि इस सरकार के मंत्री मोहम्मद अकबर कहते हैं सदन में सभी मंत्रियों की संयुक्त जिम्मेदारी होती है, वहीं किसानों की बात आने पर कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे इसे सहकारिता मंत्री से जुड़ा मामला बता देते हैं। पूरे प्रदेश में मातम छाया हुआ है। जब किसानों से जुड़े सवालों का जवाब ही नहीं आए तो फिर इस मानसून सत्र का क्या औचित्य। स्थगन स्वीकार कर चर्चा कराएं।

Leave a Comment