State

स्वास्थ्य बीमा योजना का भुगतान नहीं कर रही कंपनी, मरीजों की समस्या बढ़ी

रायपुर/जनदखल. राज्य में लागू आयुष्मान भारत योजना और मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत मरीजों का उपचार करने वाले शासकीय और निजी अस्पतालों को बीमा कंपनी द्वारा भुगतान नहीं किया जा रहा। शासन से प्रीमियम की पूरी राशि मिलने के बाद भी अस्पतालों के उपचार की राशि रोक दी गई है। लगातार मिलने वाली शिकायतों के बाद स्वास्थ्य संचालक ने रेलीगेयर बीमा कंपनी को तीन दिन में पूरा भुगतान करने का नोटिस दिया है। ऐसा नहीं होने पर बीमा कंपनी को ब्लैक लिस्टेड करने की ​चेतावनी दी गई है।

प्रदेश में लागू स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत मरीजों का उपचार करने वाले अस्पतालों को भुगतान नहीं किए जाने की शिकायत बहुत पुरानी है। इसे लेकर कई बार निजी अस्पताल संचालक अपना विरोध जताते हुए स्वास्थ्य बीमा योनजा में इलाज बंद कर चुके हैं। इसके बाद भी कंपनी अपने भुगतान की प्रक्रिया में सुधार नहीं करती। इस बार भी निजी के साथ शासकीय अस्पतालों में भी किए गए उपचार के भुगतान की समस्या आन खड़ी हुई है। सूत्रों के मुताबिक रेलीगेयर बीमा कंपनी द्वारा दोनों स्वास्थ्य बीमा योजनाओं का भुगतान नहीं किया गया। प्रदेश में रोजाना लगभग तीन करोड़ का इलाज इन योजनाओं के तहत किया जाता है।

निजी अस्पतालों से मरीजों को इस योजना में उपचार करने के बजाए लौटा दिया जा रहा है। बताया जा रहा है कि 20 करोड़ का भुगतान करने में कंपनी पीछे हट रही है। लगातार मिल रही शिकायतों के बाद इस तरफ स्वास्थ्य विभाग ने ध्यान दिया है और बीमा कंपनी को लेकर कड़ा रुख अख्तियार किया है। संचालक स्वास्थ्य सेवा और स्वास्थ्य बीमा योजनाओं के सीईओ की और से रेलीगेयर हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी को चेतावनी जारी कर दी गई है। बीमा कंपनी को शासकीय और निजी अस्पतालों के पूरा लंबित भुगतान करने के लिए तीन दिनों की मोहलत दी गई है।

Leave a Comment