State

सीएम ने कहा- राज्य में फर्जी जाति प्रमाण पत्र के मामले जल्द निपटा लिए जाएंगे

रायपुर/जनदखल. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ में अब कोई फर्जी जाति प्रमाण पत्र से नौकरी नहीं कर सकेगा। सीएम ने कहा कि एक महीने के भीतर जितने भी फर्जी जाति प्रमाण पत्र के मामले हैं उसका परीक्षण कर उसे निपटाया जाएगा। इसके लिए हमने कहा है कि जिनके पिता का जाति प्रमाण पत्र है उनके बच्चों को पैदा होते ही जाति प्रमाण पत्र बनाकर दें। बघेल ने कहा कि कोंडागांव में गोदी में लेकर आए दो बच्चों को उन्होंने जाति प्रमाण पत्र दिया है। ऐसा इसलिए किया जा रहा है क्योंकि इसके नहीं होने से बच्चों को एडमिशन नहीं मिलता, स्कालरशिप में परेशानी होती है नौकरी नहीं मिलती।

उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ ही एक ऐसा राज्य है जहां पर आदिवासी की जमीन आदिवासी के अलावा कोई दूसरा नहीं खरीद सकता। उन्होने कहा कि पूर्व की सरकार ने एक काला कानून लाया था जिसमें आदिवासी की जमीन आपसी समझौते से किसी के भी खरीदने की बात कही गई थी। हमने सरकार में आते ही इस कानून को बदल दिया। क्योंकि जल, जंगल और जमीन नहीं होंगे तो आदिवासी भी समाप्त हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि आदिवासियों की परंपरा जीवित रहे इसके लिए हम संकल्पित हैं। सीएम ने कहा कि आदिवासी दिवस की पहली बार छुट्‌टी दिए हैं। हरेली, तीजा की भी छुट्‌टी है। अब हम आने वाले दिनों में बच्चों के लिए नंदिया बैला और तिजहारिन बहनों के लिए करु भात की व्यवस्था भी करेंगे।

Leave a Comment