State

सीबीएसई ने 10वीं व 12वीं की बोर्ड परीक्षा के लिए फीस में की भारी वृद्धि

रायपुर/जनदखल. सीबीएसई ने 10वीं व 12वीं की बोर्ड परीक्षा के लिए फीस में वृद्धि की है। इसके अनुसार अब अनूसूचित जाति (एससी) व अनुसूचित जनजाति (एसटी) के विद्यार्थियों को 50 रुपए की जगह 1200 रुपए देने होंगे। जबकि जनरल कैटेगरी वाले विद्यार्थियों को अब पहले की तुलना में दोगुनी फीस यानी 1500 रुपए देने होंगे। उल्लेखनीय है कि सीबीएसई की 10वीं की परीक्षा के लिए विद्यार्थी का पंजीयन उसके 9वीं कक्षा में रहते व 12वीं की परीक्षा के लिए पंजीयन विद्यार्थी के 11वीं कक्षा में रहते ही हो जाता है।

इसलिए बोर्ड ने स्कूलों को अधिसूचना जारी कर यह स्पष्ट कर दिया है कि यदि उन्होंने पंजीयन प्रक्रिया शुरू कर दी है और विद्यार्थियों से पुरानी दर पर फीस वसूल की है तो वे उनसे नई दर के मुताबिक अतिरिक्त राशि वसूल करें। यहीं नहीं नई दर के अनुसार तय तारीख तक अतिरिक्त फीस जमा नहीं करने पर विद्यार्थियों का परीक्षा के लिए पंजीयन नहीं हो सकेगा और वे परीक्षा में नहीं बैठ सकेंगे। नए नियमों के मुताबिक, एससी व एसटी के विद्यार्थियों को पांच विषयों के लिए 1200 रुपए देने होंगे, जबकि पहले उन्हें सिर्फ 50 रुपए ही देने होते हैं। इस तरह इन दोनों वर्ग के विद्यार्थियों की फीस में 24 गुना की वृद्धि हुइ है।

वहीं जनरल कैटेगरी के विद्यार्थियों को अब 750 की जगह 1500 रुपए फीस देनी होगी। सीबीएसई के वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक यह फीस 10वीं व 12वीं दोनों की परीक्षा के लिए है। 12वीं में अतिरिक्त विषय की परीक्षा में बैठने वाले एससी व एसटी के विद्यार्थियों को पहले कोई अतिरिक्त फीस नहीं देनी होती थी। लेकिन अब यह रियायत खत्म कर दी गई है। अब उन्हें इसके लिए 300 रुपए देने होंगे। जबकि जनरल कैटेगरी के विद्यार्थियों को अतिरिक्त विषय के लिए पहले के 150 रुपए की जगह 300 रुपए देने होंगे। अधिकारी के मुताबिक, शत् प्रतिशत दृष्टि बाधित विद्यार्थियों के लिए सीबीएसई परीक्षा फीस न भरने की छूट दी गई है। बोर्ड ने माइग्रेशन फीस भी बढ़ा दी है। अब यह 150 की जगह 300 रुपए हो गई है।

Leave a Comment