State

त्रिपुरा के राज्यपाल बनने के बाद शहर पहुंचने पर बैस का जोरदार स्वागत

रायपुर/जनदखल. त्रिपुरा के राज्यपाल बनाये जाने के बाद पहली बार गृह शहर पहुंचने पर भाजपा के कद्दावर नेता रमेश बैस का आतिशी स्वागत विमानतल पर किया गया। बड़े-छोटे तमाम नेता पूरे लाव लश्कर के साथ पहुंचे हुए थे। फूल माला, ढोल के साथ बैस जिंदाबाद के नारे से विमानतल गूंज उठा। बैस ने पीएम मोदी, शाह व नड्डा के प्रति आभार जताते हुए केवल इतना कहा कि नई जिम्मेदारी निभाने वे तैयार हैं। पार्टी ने जब भी जो दायित्व सौंपा है उन्होने एक सामान्य कार्यकर्ता की हैसियत से निभाया है, पहले राजनीतिक और अब संवैधानिक पद पर जिम्मेदारी निभाने के सवाल पर कहा सेवा तो जनता का करना है चाहे देश का कोई भी प्रदेश क्यों न हों लेकिन उन्हे छत्तीसगढिय़ा होने पर गर्व है।

इसके बाद भाजपा कार्यालय एकात्म परिसर में आयोजित समारोह में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए रमेश बैस ने कहा कि यह सम्मान मैं सम्पूर्ण छत्तीसगढ़वासियों और भाजपा नेतृत्व और कार्यकर्ताओं को सपर्मित करता हूं। मैं आज के बाद संवैधानिक दायित्व निभाने जा रहा हूं इसलिए पार्टी कार्यालय दायित्व रहते तक नहीं आ पाऊंगा। भारतीय जनता पार्टी ने मुझे अपने जीवन के स्वर्णिम अवसर दिए है। एक किसान का बेटा था कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि मैं चुनाव लड़ूंगा कभी पार्षद, विधायक, सांसद बनूंगा नहीं सोचा था परन्तु पार्टी के कार्यकर्ताओं ने मेहनत और स्नेह से मुझे लंबे समय तक जन प्रतिनिधि बनाया और आज शीर्ष नेतृत्व ने ऐसा दायित्व दिया है कि मैं इस पार्टी का अहसान कभी जीवन भर नहीं भूल सकता।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने जब मुझे टेलीफोन पर ये कहा कि आपको कोई संवैधानिक दायित्व देने की सोच रहे हैं तब मेरा यही जवाब था कि पार्टी नेतृत्व के फैसले मेरे लिए हमेशा शिरोधार्य रहे हैं। मैं लंबे समय तक आप सब के बीच में काम करता रहा हूं। मैं आप सबके स्नेह को कभी नहीं भुला सकता हूं। मन बहुत भरा-भरा सा लग रहा है। इतना कहते हुए श्री बैस भावुक हो गए और उन्होंने छत्तीसगढ़ वासियों को त्रिपुरा आने का न्यौता भी दिया।

Leave a Comment