Big news

खुफिया निगरानी रखने के लिए इसरो ने किया सैटेलाइट लांच

नई दिल्ली/जनदखल. इसरो ने श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से प्रक्षेपण यान पीएसएलवी-सी46 के साथ भारत के हर मौसम के रडार इमेजिंग पृथ्वी निगरानी उपग्रह आरआईसैट-2बी को लांच किया। वहीं पीएसएलवीसी 46 ने सफलतापूर्वक आरआईसैट-2बी रडार पृथ्वी अवलोकन सैटेलाइट को 555 किमी ऊंचाई वाले लो अर्थ ऑर्बिट में इंजेक्ट किया गया। यह पीएसएलवी की 48वीं उड़ान है और रीसैट सैटेलाइट सीरीज का चौथा सैटेलाइट बताया गया है। यह सैटेलाइट खुफिया निगरानी, कृषि, वन और आपदा प्रबंधन सहयोग जैसे क्षेत्रों में मदद करेगा।

रीसैट-2बी सैटेलाइट का इस्तेमाल मौसम में टोही गतिविधियों, रणनीतिक निगरानियों और आपदा प्रबंधन में आसानी से कर सकेंगे। रीसैट-2बी सैटेलाइट के साथ सिंथेटिक अपर्चर रडार (सार) इमेजर भेजा है। इससे संचार सेवाएं निरंतर बनी रहेंगी। उड़ान भरने के लगभग 15 मिनट बाद रॉकेट ने आरआईएसएटी-2बी को 555 किलोमीटर दूर कक्षा में सफलतापूर्वक स्थापित कर दिया।

एक वरिष्ठ अधिकारी ने गोपनीयता की शर्त पर कहा कि सामरिक क्षेत्रों के लिए उपग्रहों की मांग बढ़ गई है। लगभग छह उपग्रहों को बनाने की योजना है। आरआईएसएटी-2बी के साथ बुधवार को प्रक्षेपित 44.4 मीटर लंबा पीएसएलवी स्ट्रैप-ऑन मोटरों के बिना वाला अकेला वेरिएंट है। भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी के पास पीएसएलवी के दो और चार स्ट्रैप-ऑन मोटर्स और बड़े पीएसएलवी-एक्सएल हैं।

Leave a Comment