Big news

चुनावों को लेकर कांग्रेस की उम्मीदें बढ़ी, अंतरिम अध्यक्ष बनी सोनिया की तरफ निगाहें

नई दिल्ली/जनदखल. सोनिया गांधी के कांग्रेस का अंतरिम अध्यक्ष बनने के बाद तीन राज्यों के विधानसभा चुनावों को लेकर कांग्रेस की उम्मीदें बढ़ गई हैं। हरियाणा, झारखंड और महाराष्ट्र में अगले छह माह में चुनाव होने हैं। इनमें भाजपा की सरकारें है। लेकिन पार्टी नेताओं को यकीन है कि सोनिया के नेतृत्व में पार्टी अच्छा प्रदर्शन करेगी। दो नवंबर को हरियाणा, 11 नवंबर को महाराष्ट्र और 5 जनवरी 2020 को झारखंड विधानसभा का कार्यकाल पूरा हो रहा है। पिछले कुछ वर्षों के दौरान पार्टी के युवा और बुजुर्ग नेताओं की बीच मतभेद बढ़े हैं। इसे दूर करते हुए आपसी तालमेल बैठाना कांग्रेस अध्यक्ष के लिए आसान नहीं होगा।

इस वक्त पांच प्रदेशों में कांग्रेस की सरकार है। इसके बावजूद कार्यकर्ता मायूस हैं। ऐसे में जमीनी स्तर पर ऐसे कार्यकर्ता तैयार करने होंगे, जो भाजपा का मुकाबला कर सके। सोनिया गांधी को पार्टी के अंदर टूट और बिखराव को रोकना होगा, राष्ट्रीय मुद्दों पर फौरन पार्टी का रुख तय करना होगा, ताकि अनुच्छेद 370 जैसी स्थिति ना पैदा हो। ब्लॉक से एआईसीसी तक नया संगठन तैयार करना होगा, जो मौजूदा स्थिति का मुकाबला कर सके।

कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में उत्तर प्रदेश के नेताओं ने नए अध्यक्ष के लिए राहुल गांधी के बाद सोनिया गांधी का नाम सुझाया था। इन नेताओं की राय लेने वाले समूह में शामिल पूर्व वित्त मंत्री पी.चिंदबरम ने जब अंतरिम अध्यक्ष पद के लिए सोनिया गांधी से आग्रह किया तो वे इससे इनकार नहीं कर सकीं। दूसरे दौर की बैठक के दौरान सभी सदस्यों ने राहुल गांधी से अपने फैसले पर पुनर्विचार करने का आग्रह किया। प्रियंका गांधी वाड्रा ने बताया कि राहुल गांधी इसके लिए तैयार नहीं है। इसके बाद पी. चिदंबरम ने सोनिया गांधी को अंतरिम अध्यक्ष बनने का सुझाव दिया।

Leave a Comment